NEWS FLASH
  • इस्लामिक सेंटर ऑफ़ इंडिया : केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए ईद बजट का 10% दान करें
  • दिल्लीः 15 अगस्त को इंडिया गेट पर संविधान, गुरु ग्रन्थ साहिब, कुरान, बाइबल और गीता को जलाने के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया
  • नहीं रहे भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी
  • Breaking-पाकिस्तान सरकार ने 26 मछुआरों सहित 29 भारतीय कैदियों को मानवता के आधार पर आज पंजाब के अटारी-वाघा बॉर्डर पर रिहा किया।
  • ग्रेटर नोएडा महिला के देवर ने महिला को ईंट पत्थरों से बेरहमी से मारा बोडाकी गांव में महिला लहूलुहान होकर पहुंची दादरी कोतवाली जरा सी कहासुनी होने पर देवर ने अपनी भाभी पर ही ईट से कर दिया वार दादरी पुलिस ने महिला का मेडिकल कराकर किया मुकदमा दर्ज ग्रेटर नोएडा के दादरी थाना क्षेत्र का मामला
  • सुप्रीम कोर्ट ने आरुषि हेमराज हत्याकांड में तलवार दंपति के खिलाफ सीबीआई की याचिका को किया स्वीकार, तलवार दंपति को नोटिस जारी।
  • सरकार ने तीन तलाक बिल में किया संसोधन गैर जमानती होगा तीन तलाक
  • दिल्ली के बाद बुलंदशहर में कावड़ियों का बवाल, पुलिस की गाड़ी तोड़ी
  • वंदना चव्हाण हो सकती है राज्यसभा उपसभापति पद के लिए विपक्ष की उम्मीदवार
  • DCW ने दिल्ली में महिलाओं और लड़िकियों के सभी शेल्टर होम का सोशल ऑडिट कराने का फैसला किया है।
  • SSP की बड़ी कार्रवाई : घटनास्थल पर देरी से पहुंचने पर एसएसपी गौतम बुद्ध नगर ने दरोगा को किया सस्पेंड।
  • Article 35A: वैधता पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली, दो सप्‍ताह बाद फिर बैठेगी अदालत
  • जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जे (आर्टिकल 35-A) पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई
  • वर्षों बाद मुगलसराय जंक्शन को मिली नई पहचान: CM योगी
  • ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ वार्ता करेगे cm योगी आदित्यनाथ
  • सीएम योगी का नोयडा दौरा आज जीबीयू 11:25 बजे पहुंचेंगे

अब आँखों से पता चलेंगी दिल की बीमारियाँ
[Edited By: Neha Singh]
9/28/2018 6:03:35 PM






जल्द ही गूगल एक ऐसी तकनीक ला रहा है, जिससे आपके आंखों की रेटिना को देखकर आपके दिल की बीमारी के बारे में बताया जा सकेगा। आपको बता दें कि दुनियाभर में होने वाली सबसे ज्यादा मौतों का कारण दिल की बीमारियां हैं। केवल भारत में दिल की बीमारियों से मरने वालों की संख्या लाखों में है। इनमें से ज्यादातर बीमारियों का कारण सही समय पर बीमारी का पता न चल पाना है। ऐसे में गूगल की इस तकनीक से लाखों जिंदगियों को बचाया जा सकेगा।गूगल के शोधकर्ताओं ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए ये सिस्टम बनाया है। इस तकनीक में आपकी आंखों को स्कैन करते ही आपकी सेहत के बारे में सभी बातें पता चल जाएंगी।इस तकनीक की खास बात ये है कि इससे व्यक्ति के दिल के बारे में काफी जानकारियां मिलेंगी, जिससे हृदय रोगों का सही समय से इलाज और बचाव करना संभव हो पाएगा।
इस तकनीक के आने से मेडिकल साइंस को काफी मदद मिलेगी क्योंकि ये तकनीक मरीज के शरीर और बीमारियों के बारे में बिना किसी टेस्ट और डायग्नोस्टिक मशीन के सबकुछ बता देगी। इस तकनीक से यह भी पता चलेगा कि व्यक्ति को हार्ट अटैक का कितना खतरा है और उसे कितने सालों में ये बीमारी होने की संभावना है।