NEWS FLASH
  • इस्लामिक सेंटर ऑफ़ इंडिया : केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए ईद बजट का 10% दान करें
  • दिल्लीः 15 अगस्त को इंडिया गेट पर संविधान, गुरु ग्रन्थ साहिब, कुरान, बाइबल और गीता को जलाने के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया
  • नहीं रहे भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी
  • Breaking-पाकिस्तान सरकार ने 26 मछुआरों सहित 29 भारतीय कैदियों को मानवता के आधार पर आज पंजाब के अटारी-वाघा बॉर्डर पर रिहा किया।
  • ग्रेटर नोएडा महिला के देवर ने महिला को ईंट पत्थरों से बेरहमी से मारा बोडाकी गांव में महिला लहूलुहान होकर पहुंची दादरी कोतवाली जरा सी कहासुनी होने पर देवर ने अपनी भाभी पर ही ईट से कर दिया वार दादरी पुलिस ने महिला का मेडिकल कराकर किया मुकदमा दर्ज ग्रेटर नोएडा के दादरी थाना क्षेत्र का मामला
  • सुप्रीम कोर्ट ने आरुषि हेमराज हत्याकांड में तलवार दंपति के खिलाफ सीबीआई की याचिका को किया स्वीकार, तलवार दंपति को नोटिस जारी।
  • सरकार ने तीन तलाक बिल में किया संसोधन गैर जमानती होगा तीन तलाक
  • दिल्ली के बाद बुलंदशहर में कावड़ियों का बवाल, पुलिस की गाड़ी तोड़ी
  • वंदना चव्हाण हो सकती है राज्यसभा उपसभापति पद के लिए विपक्ष की उम्मीदवार
  • DCW ने दिल्ली में महिलाओं और लड़िकियों के सभी शेल्टर होम का सोशल ऑडिट कराने का फैसला किया है।
  • SSP की बड़ी कार्रवाई : घटनास्थल पर देरी से पहुंचने पर एसएसपी गौतम बुद्ध नगर ने दरोगा को किया सस्पेंड।
  • Article 35A: वैधता पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली, दो सप्‍ताह बाद फिर बैठेगी अदालत
  • जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जे (आर्टिकल 35-A) पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई
  • वर्षों बाद मुगलसराय जंक्शन को मिली नई पहचान: CM योगी
  • ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ वार्ता करेगे cm योगी आदित्यनाथ
  • सीएम योगी का नोयडा दौरा आज जीबीयू 11:25 बजे पहुंचेंगे

यूपी में बढ़ा मलेरिया खतरा
[Edited By: Neha Singh]
9/29/2018 7:33:52 PM






मौसम बदलते ही कुछ रोग तेजी से पीछे-पीछे आ जाते हैं। उन्हीं में से एक है मलेरिया। इन दिनों मलेरिया तेजी से उत्तर प्रदेश में दस्तक दे चुका है। यूपी की राजधानी लखनऊ के साथ ही बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर, पीलीभीत, खीरी, बहराइच और सीतापुर में तेजी से फैल रहे मलेरिया एवं बुखार को लेकर स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कड़े दिशा निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा है कि मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए विशेष वार्ड बनाए गए हैं और मरीजों की पहचान के लिए सघन अभियान का दायरा बढ़ाया गया है।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि बीते 24 घंटों में इन जिलों में बुखार के 11,682 मरीज सामने आए हैं।  कुछ जिलों में 10 अगस्त से जारी बुखार के प्रकोप पर प्रभावी रोकथाम और नियंत्रण के लिए प्रयास हो रहे हैं। लार्वा रोधी रसायन का छिड़काव, मरीज के घर के अंदर और बाहर मलेरिया निरोधात्मक कार्रवाई की जा रही है। संवेदनशील और अति प्रभावित क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर लगाए गए हैं। स्वच्छता और जलभराव की स्थिति में सुधार करके मच्छरों पर प्रभावी नियंत्रण की कोशिश हो रही है। इससे स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों से मौसमी बुखार, मलेरिया के रोगियों की संख्या में कमी आ रही है।अगर समय रहते काबू पा लिया जाए तो मलेरिया का इलाज ज्यादा मुश्किल नहीं है। मलेरिया के इलाज में ऐंटिमलेरियल ड्रग्स और लक्षणों को नियंत्रण में लाने के लिए दवाएं, जरूरी टेस्ट, घरेलू नुस्खे और तरल पदार्थ व इलेक्ट्रोलाइट्स शामिल होते हैं। मलेरिया के इलाज के लिए हर मरीज के लिए एक सी दवा नहीं होती है। बल्कि डॉक्टर इंफेक्शन के स्तर और क्लोरोक्वाइन प्रतिरोध की संभावना को देखते हुए दवा बताते हैं। मलेरिया में दी जाने वाली दवाओं में क्विनीन, मेफ्लोक्विन व डॉक्सीसाइक्लिन शामिल होता है। फाल्सीपेरम मलेरिया से ग्रस्त लोगों के लक्षण सबसे गंभीर होते हैं। रोग में श्वास की विफलता, कोमा और किडनी की विफलता भी हो सकती है। गर्भवती महिलाओं में, क्लोरोक्विन का इस्तेमाल मलेरिया के लिए उपर्युक्त इलाज माना जाता है|